‘सृष्टि’ कितनी भी बदल जाये..(Anything changed nature)


‘सृष्टि’ कितनी भी बदल जाये..(Anything changed nature)
हम सुखी नहीं हो सकते
पर
‘दृष्टि’ जरा सी बदल जाये
तो हम सुखी हो सकते हैं..

Post Comments


Leave a Reply