मैंने दहेज़ नहीं माँगा (I did not ask for dowry) Thought | dowry law misuse, social theory, Social Thought in hindi, social customs, social norms, social mores, social change

मैंने दहेज़ नहीं माँगा (I did not ask for dowry) Thought | dowry law misuse, social theory, Social Thought in hindi, social customs, social norms, social mores, social change

“मैंने दहेज़ नहीं माँगा – I did not ask for dowry” – About Dowry Law Misuse

साहब मैं थाने नहीं आउंगा,
अपने इस घर से कहीं नहीं जाउंगा,
माना पत्नी से थोड़ा मन-मुटाव था,

सोच में अन्तर और विचारों में खिंचाव था,
पर यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”

मानता हूँ कानून आज पत्नी के पास है,
महिलाओं का समाज में हो रहा

हम फिर से कर लेंगे (We'll do it again)
जाने कौन सी शौहरत (What to wealth)
कैसे हो पायेगी (How to be pursues)
जिन्दगी मे दो लोग जरूर(In life Two people must)

जिन्दगी मे दो लोग जरूर(In life Two people must)

जिन्दगी मे दो लोग जरूर(In life Two people must) चlहिये, एक कृष्णा जो ना लड़े फिर भी, जीत पक्की कर दे ! और दुसरा कर्ण जो हार सामने हो फिर

उलझनें (Complications) मीठी (Sweet)भी
नेतृत्व (Leadership)वही करता है
वो ? मेरी किस्मत (Destiny)? में नहीं

वो ? मेरी किस्मत (Destiny)? में नहीं

वो ? मेरी किस्मत (Destiny)? में नहीं ❌, ये सुना ? है लोगों ?(People) से,
फिर सोचता ? हूँ, किस्मत ? खुदा ? लिखता है, लोग ? नहीं.

सामने वाला गुस्से(Anger) में

छोटे बच्चे की चड्डी Vs WhatsApp

छोटे बच्चे की चड्डी Vs WhatsApp

छोटे बच्चे की चड्डी और WhatsApp दोनो बराबर है,

क्योंकि,

थोड़े थोड़े समय बाद चेक करनी पड़ती है

कि कुछ आया तो नहीं। ??