कुछ बोलने और तोड़ने में (In some speaking and breaking)


कुछ बोलने और तोड़ने में (In some speaking and breaking)
केवल एक पल लगता है
जबकि बनाने और मनाने में
पूरा जीवन लग जाता है।
प्रेम सदा
माफ़ी माँगना पसंद करता है,
और अहंकार सदा
माफ़ी सुनना पसंद करता है..


Leave a Reply