एक दिन उम्र ने तलाशी ली(One day the age was searched)


एक दिन उम्र ने तलाशी ली,(One day the age was searched)
तो जेब से लम्हे बरामद हुए

कुछ ग़म के थे,_
कुछ नम से थे,_
कुछ टूटे हुए थे,_

जो सही सलामत मिले..

वो बचपन के थे..!!
“बचपन” कितना खूबसूरत था,
तब”खिलौने जिंदगी”थे
आज “जिंदगी खिलौना” है

Post Comments


Leave a Reply