दुखद शायरी (Sad Shayari)

Sad Shayari

सपना हैं आँखों में मगर नींद नहीं है;
दिल तो है जिस्म में मगर धड़कन नहीं है;
कैसे बयाँ करें हम अपना हाल-ए-दिल;
जी तो रहें हैं मगर ये ज़िंदगी नहीं है।

(Visited 12 times, 1 visits today)

Post Comments