1444608651012

कर्मों की आवाज़

कर्मों की आवाज़
शब्दों से भी ऊँची होती है
यह आवश्यक नहीं कि
हर लड़ाई जीती ही जाए

आवश्यक तो यह है कि
हर हार से कुछ सीखा जाए

तब तक कमाओ… जब तक
“महंगी” चीज “सस्ती” ना लगने लगे..
चाहे वो सामान हो या सम्मान….?

Leave a Reply