DSCF0173

कल न हम होंगे न गिला होगा।

कल न हम होंगे न

गिला होगा।
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिललिसा होगा।
जो लम्हे हैं चलो हंसकर बिता लें।
जाने कल जिंदगी का क्या फैसला होगा।

Leave a Reply