अभ्यास हमें बलवान बनाता हैं (Practice makes us strong)
आनंद (Joy)

आनंद (Joy)

आनंद (Joy)
एक “आभास” है
जिसे हर कोई ढूंढ रहा है…

“दु:ख”
एक “अनुभव” है
जो आज हर एक के पास ह

रिश्ता बहुत गहरा हो या न हो(Whether the relationship is too deep or not)

रिश्ता बहुत गहरा हो या न हो(Whether the relationship is too deep or not)

रिश्ता बहुत गहरा हो या न हो(Whether the relationship is too deep or not) परन्तु भरोसा बहुत गहरा होना चाहिये.. गुरु वही श्रेष्ठ होता है जिसकी प्रेरणा से किसी का …

Read More “रिश्ता बहुत गहरा हो या न हो(Whether the relationship is too deep or not)”

उम्मीदें तैरती रहती हैं,(Expectations floats)

उम्मीदें तैरती रहती हैं,(Expectations floats)

उम्मीदें तैरती रहती हैं,(Expectations floats)
कश्तीयां डूब जाती है..!!
कुछ घर सलामत रहते हैं,
आँधियाँ जब भी आती है..!!

जीत निश्चित हो तो,(Victory is sure)

जीत निश्चित हो तो,(Victory is sure)

जीत निश्चित हो तो,(Victory is sure) कायर भी जंग लड़ लेते है… बहादुर तो वो लोग है , जो हार निश्चित हो फिर भी मैदान नहीं छोड़ते… भरोसा ” ईश्वर …

Read More “जीत निश्चित हो तो,(Victory is sure)”

भरोसा उस पर करो(Trust on them)

भरोसा उस पर करो(Trust on them)

भरोसा उस पर करो
जो आपके अंदर की तीन
बातें जान सके…

मुस्कुराहट के पीछे दुःख,
गुस्से के पीछे प्यार,
चुप रहन

" रिश्ता "(Relation)  और  " भरोसा "(Trust)

” रिश्ता “(Relation) और ” भरोसा “(Trust)

” रिश्ता “(Relation) और ” भरोसा “(Trust) दोनो ही दोस्त हे…! ” रिश्ता ” रखो या ना रखो… किंतु…. ” भरोसा ” जरूर रखना..! क्युं की जंहा ” भरोसा ” …

Read More “” रिश्ता “(Relation) और ” भरोसा “(Trust)”

તારો અને મારો સંબંધ - Relation

તારો અને મારો સંબંધ – Relation

Relation

તારો અને મારો હવે, સંબંધ(Relation) સારો ના રહ્યો,
જેનો કર્યો વિશ્વાસ(Trust) મેં,એનો પનારો ના રહ્યો.

કોણે કહ્યું,કે હું

foundation-of-relationship-trust-quote-maintain-trust-in

रिश्ता और भरोसा

” रिश्ता ” और ” भरोसा ”
दोनो ही दोस्त हे…!
” रिश्ता ” रखो या ना रखो…
किंतु….
” भरोसा ” जरूर रखना..!
क्युं की जंहा ” भरोसा ” होता हे…
वंहा ” रिश्ते ” अपने आप बन जाते है


no-trust-no-relationship

साथ रह कर जो छल करें,

साथ रह कर जो छल करें,
उससे बड़ा कोई शत्रु
नहीं हो सकता

और

जो हमारे मुंह पर
हमारी बुराइयां बता दे,
उससे बड़ा कोई
मित्र हो नहीं सकता ।

याद रहें

साफ-साफ बोलने वाला
कड़वा जरुर होता है
पर धोखेबाज़
हर्गिज़ नहीं हो सकता !