download

गलतियाँ, विफलता, अपमान

“गलतियाँ”, “विफलता”, “अपमान”,
“निराशा” और “अस्वीकृति”,
ये सभी “उन्नति” और
“विकास” का ही एक हिस्सा है।

कोई भी व्यक्ति इन सभी पाँचो चीजों को
सामना किये बिना “जीवन” में
कुछ भी “प्राप्त” नहीं कर सकता।

man-jumping-over-impossible-or-possible-over-cliff-on-sunset-background-business-concept-idea_1323-266

Impossible

“Impossible” को
गौर से देखो , वो खुद कहता है
“”I m Possible””
बस, देखने का नजरिया बदल दो और
नामुमकिन को मुमकिन करो।
“उदास होने के लिए उम्र पड़ी है,
“नज़र उठाओ सामने ज़िंदगी खड़ी है

goal-setting

समय न लगाओ तय करने में

समय न लगाओ तय करने में,
आपको क्या करना है.
वरना ‘समय‘ तय कर लेगा कि,
आपका क्या करना है.. .

पैसा एक ही भाषा बोलता है,
अगर तुमने “आज” मुझे बचा लिया तो..
“कल” मै तुम्हे बचा लूंगा

“पैसा फिर कहता है,
भले मैं उपर साथ नहीं जाऊंगा
पर जब तक मै नीचे हूँ
तुझे बहुत उपर लेके जाऊंगा..”

काबिलियत इतनी बढाओ(Increase your ability)
original

જ્યારે “કુદરત ” તમને

જ્યારે “કુદરત ” તમને “મુશ્કેલીના” શિખર પરથી”ધક્કો” મારે ને સાહેબ…

“તો એક વાત યાદ રાખજો”

કાં તો તમને “ઝીલી” લેશે
કાં તો તમને “ઉડતા” શીખવાડી દેશે…

1444608651012

कर्मों की आवाज़

कर्मों की आवाज़
शब्दों से भी ऊँची होती है
यह आवश्यक नहीं कि
हर लड़ाई जीती ही जाए

आवश्यक तो यह है कि
हर हार से कुछ सीखा जाए

तब तक कमाओ… जब तक
“महंगी” चीज “सस्ती” ना लगने लगे..
चाहे वो सामान हो या सम्मान….?

242394032_f779e2cd87

आलपिन?? सारे कागज़ को

आलपिन?? सारे कागज़ को
जोड़कर रखना
चाहती है
लेकिन वह हर कागज़ को
चुभती है

इसी प्रकार जो व्यक्ति
सभी को जोड़कर रखना
चाहता है वह भी सभी की
आँखों में चुभता है
“कोई अगर आपके अच्छे कार्य पर सन्देह करता है …
तो करने देना, क्योकि…
शक़, सदा सोने की शुद्धता पर किया जाता है…
कोयले की कालिख पर नही…!”

untitled-1-

मेहनत सीढियों की तरह

मेहनत सीढियों की तरह
होती हैं?
और
भाग्य लिफ्ट की तरह ……?
किसी समय लिफ्ट तो बंद हो
सकती हैं
लेकिन ….
सीढियाँ हमेशा उँचाई की
तरफ ले जाती हैं। ।


424a6c12c99c0f12f48f2184f1eda9b7