मैंने दहेज़ नहीं माँगा (I did not ask for dowry) Thought | dowry law misuse, social theory, Social Thought in hindi, social customs, social norms, social mores, social change

मैंने दहेज़ नहीं माँगा (I did not ask for dowry) Thought | dowry law misuse, social theory, Social Thought in hindi, social customs, social norms, social mores, social change

“मैंने दहेज़ नहीं माँगा – I did not ask for dowry” – About Dowry Law Misuse

साहब मैं थाने नहीं आउंगा,
अपने इस घर से कहीं नहीं जाउंगा,
माना पत्नी से थोड़ा मन-मुटाव था,

सोच में अन्तर और विचारों में खिंचाव था,
पर यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा”

मानता हूँ कानून आज पत्नी के पास है,
महिलाओं का समाज में हो रहा

रिश्ते कभी जिंदगी के  (Relationship of Life ever)

रिश्ते कभी जिंदगी के (Relationship of Life ever)

रिश्ते कभी जिंदगी के (Relationship of Life ever) साथ साथ नहीं चलते..!! 💞 रिश्ते एक बार बनते है फिर जिंदगी रिश्तो के साथ साथ चलती है….!!!!

अगर  शहद  जैसा(If honey like)

अगर शहद जैसा(If honey like)

अगर शहद जैसा(If honey like) मीठा परिणाम चाहियें तो, मधुमक्खियों की तरह, एक रहना ज़रूरी है.. चाहे वो दोस्ती हो.. परिवार हो.. या अपना मुल्क हो..

दौलत से सिर्फ सुविधायें मिलती हैं(Just facilities from wealth meets)
मित्रता एवं रिश्तेदारी(Friendship and Relationship)
रिश्ते मन से बनते है (Relationships are formed from the heart)
समय बहाकर ले जाता है (Takes time out)
अच्छे और सच्चे रिश्ते (Good and true relationships)
Milna ek ittefaq hai - Relationship Thought

कुछ रिश्ते इस जहाँ में खास होते हैं (Some relationships are special in this where)