पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (Why so much love with stones)

पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (Why so much love with stones)

पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (love with stones)

जिस तरह लोग मुर्दे इंसान को
कंधा देना पुण्य समझते हैं​

काश” इस तरह’ ज़िन्दा” इंसान
को सहारा देंना पुण्य समझने
लगे तो ज़िन्दगी आसान हो जायेगी​.

मंजिल भी नहीं ठिकाना भी नहीं(Destination not even whereabouts)

मंजिल भी नहीं ठिकाना भी नहीं(Destination not even whereabouts)

मंजिल भी नहीं ठिकाना भी नहीं(Destination not even whereabouts) वापस मुझे उसके पास जाना भी नहीं… हमने ही सिखाया था उसे बंदूक चलाना… आज हमारे सिवा कोई और उसका निशाना …

Read More “मंजिल भी नहीं ठिकाना भी नहीं(Destination not even whereabouts)”

मैंने भी किसी से प्यार क्या था(What I even loved someone was)

मैंने भी किसी से प्यार क्या था(What I even loved someone was)

मैंने भी किसी से प्यार क्या था(What I even loved someone was) , उनकी रहो में इंतजार किया था , हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें , कसूर उनका …

Read More “मैंने भी किसी से प्यार क्या था(What I even loved someone was)”

हसीन (beautiful) ख़्वाब(dream)

हसीन (beautiful) ख़्वाब(dream)

हसीन (beautiful) ख़्वाब(dream) देख कर महोंबत(love) के बेचैन सा रातो में जागा हूं मै किरदार ए महोब्बत इतना संगदिल था सनम के हाथों लूटा इश्कजादा हु में!

images (3)

तूने दिल तोडा

तूने दिल तोडा कई बार नजरें फेर कर,
फिर भी दिल को तुझ पर एतबार था,
चाहत में तेरी दिल कुर्बान हर बार था,
तेरी झलक को दिल कब से कर्जदार था.