पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (Why so much love with stones)

पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (Why so much love with stones)

पत्थरों से इतनी मोहब्बत क्यों (love with stones)

जिस तरह लोग मुर्दे इंसान को
कंधा देना पुण्य समझते हैं​

काश” इस तरह’ ज़िन्दा” इंसान
को सहारा देंना पुण्य समझने
लगे तो ज़िन्दगी आसान हो जायेगी​.

संगमरमर के महल में (At the marble palace)

संगमरमर के महल में (At the marble palace)

संगमरमर के महल में (At the marble palace) तेरी ही तस्वीर सजाऊंगा; मेरे इस दिल में ऐ प्यार तेरे ही ख्वाब सजाऊंगा; यूँ एक बार आजमा के देख तेरे दिल …

Read More “संगमरमर के महल में (At the marble palace)”

तुम "आओ" या ना आओ मेरी "ज़िन्दगी" में ये "तुम्हारी" मर्ज़ी (You come or not in my life

तुम “आओ” या ना आओ मेरी “ज़िन्दगी” में ये “तुम्हारी” मर्ज़ी (You come or not in my life

तुम “आओ” या ना आओ मेरी “ज़िन्दगी” में ये “तुम्हारी” मर्ज़ी (You come or not in my life it’s your consent) …!!?
?मेरा प्यार “बेइंतेहा” था “बेइंतेहा” है औ

वो रूठकर (Sulkily) बोला (Spoke)

वो रूठकर (Sulkily) बोला (Spoke)

वो रूठकर (Sulkily) बोला (Spoke), तुम्हे सारी शिकायते हमसे ही क्यों है,☹ हमने भी सर झुकाकर बोल दिया की, हमें सारी उम्मीदे भी तो तुमसे ही है…!