एक व्यक्ति बनकर जीना महत्वपूर्ण नहीं है(It is not important to live in a person)

एक व्यक्ति बनकर जीना महत्वपूर्ण नहीं है(It is not important to live in a person)

“एक व्यक्ति बनकर जीना महत्वपूर्ण नहीं है(It is

not important to live in a person) अपितु एक व्यक्तित्व बनकर जीना अधिक महत्वपूर्ण है ,,
क्योंकि व्यक्ति तो समाप्त हो जाता है लेकिन व्यक्तित्व सदैव जीवित रहता है ….

Leave a Reply