न "माँग" कुछ "जमाने" से(Don't demand from world)

न “माँग” कुछ “जमाने” से(Don’t demand from world)

न “माँग” कुछ “जमाने” से(Don’t demand from world)
” ये” देकर “फिर” “सुनाते” हैं

“किया” “एहसान” “जो” एक “बार”
वो “लाख” बार “जताते” “हैं”

“है” “जिनके” पास “कुछ” “दौलत”
” समझते” हैं “खुदा” हैं “हम”

“तू “माँग” “अपने” प्रभु ” से
“जहाँ” माँगने “वो” भी “जाते” है..

Leave a Reply