जीवन में आधा  'दुःखः'(Half 'pain ' in life)

जीवन में आधा ‘दुःखः'(Half ‘pain ‘ in life)

जीवन में आधा ‘दुःखः'(Half ‘pain ‘ in life)

गलत लोगों से ‘उम्मीद’
रखने से आता है❗

और बाकी का आधा दुःख
‘सच्चे’ लोगों पर “शक”
करने से आता है ।

?’शीशा’ कमज़ोर बहुत होता है मगर “सच” दिखाने से घबराता नहीं है ।।

Leave a Reply